Famous Gulzar shayari , Gulzar poetry,Gulzar quotes

Famous Gulzar shayari – Heart Touching Gulzar poetry

gulzar poetry
Gulzar shayari

Hello मेरे प्यारे दोस्तों कैसे हैं आप लोग उम्मीद करता हूँ कि आप अच्छे होंगे.मैं आज आपके लिए ले के आया हूँ best gulzar shayari. अगर आप भी gulzar के फैंस है और आप भी ढूंढ रहे है gulzar poetry तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं. 

हमने इस आर्टिकल मे gulzar कि सब प्रकार gulzar ki shayari शामिल की है जैसे कि gulzar shayari on life और gulzar shayari on love और gulzar romantic poetry और मई उम्मीद करूंगा आपको हमारे द्वारा दी गयी ये gulzar shayari in hindi बहूटी पसंद आएगी. 

और दोस्तों एक दरख्वास्त करना चाहूँगा अगर आपको ये article gulzar shayari का पसंद आए तो इसे बेझिझक अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करेंगे क्योंकि हम आपके लिए ऐसे ही hindi shayari लाते रहेंगे,बिना आपका समय लिए शुरू करते हैं gulzar poetry in hindi 

Shayari Gulzar 

shayari gulzar
shayari gulzar

इस प्यार की नदी मे बैठ कर

अक्सर लोग पार कम डूबते जादा है

गलत लोग सबकी जिंदगी में आते है

लेकिन यह लोग हमेशा सही सबक दे कर जाते हैं

जिंदगी की लंबाई नहीं

बल्कि गहराई मायने रखती हैं

Gulzar poetry hindi

जीतने के बाद तो सारी दुनिया गले लगती हैं

लेकिन हारने के बाद जो गले लगाए सिर्फ वही अपना होता है

कहते है अंदाज जरा बदल गया तुम्हारा

लेकिन बदलने का कारण भी तुम ही हो

अकसर जिसकी हालत सही हो जाती  हैं

तो उसके साथ सभी लोग भी सही हो जाते हैं

Shayari by gulzar

shayari by gulzar
shayari by gulzar

खुदा जाने की कौन सा गुनाह कर बैठा है

तम्मनाओं वाली उम्र में तजुरबे मिल रहे है

एक कड़वा सच ये भी है

हम जिसको जितना खास बनाते है

अपनी खुद की परवाह ना करके

उनकी हर गलती पर झुक क कर मानते है

वो लोग कभी हमारी पारबह नहीं करते है

मोह इतना ना कर की बुराई छिप जाए

और घृणा इतनी भी ना कर की अच्छाई दिखाई भी ना दे

Gulzar romantic poetry

प्यार तुमसे करते है तो जगडा करने कहीं और थोड़ी जायेगे

सजा देनी हमे भी आती हैं

प र तू तकलीफ से गुजरे ये हमे मंज़ूर नही

कितना खौफ होता है रात के अंधेरे में

जाकर पूछो परिंदों सा जिनके घर नहीं होते

Gulzar shayari hindi

Gulzar shayari hindi
gulzar shayari hindi

मांग लेते तो क्या हम इनकार कर देते

दिल चुरा कर अपने अच्छा नहीं किया

हमेशा त्यारी के साथ रहना चाहए

मौसम और इंसान कब बदल जाए कुछ भरोसा नही

छोड दिया उसका इंतजार करना हमेशा के लिए

जब रात गुजर सकती है तो जिंदगी भी गुजर जाएगी

Best of gulzar poetry

उसी से पूछ लो उसकी ईश्क की कीमत

हम तो बस उसके भरोसे में ही बिक गए

अपनाने के लिए हजार खूबियां भी कम है

और छोड़ने के लिए एक कमी ही काफी है

मुझे अकेले रहने में डर नहीं लगता

पर सच कहूं तो झूठे रिश्ते से लगता है

Gulzar shayari on love

किसी का दिल अगर साफ ना हो तो 

तो उसका खूबसूरत चेहरा किस काम का

भूत हो या भगवान हों

अगर मानोगे तो सभी दिखते है

दो शब्दों में सिमटी है मेरी मोहब्बत की दासता

उपर से टूट कर चाहा और चाह कर टूट गए

Gulzar poetry two line

gulzar poetry two line
gulzar poetry two line

फ़ुरसत में याद करना हो तो मत करना

हम तन्हा जरुर है पर फिजूल नही है

उसकी मोहबत का सिलसिला भी बड़ा अजीब था यारो

अपना भी नहीं बनाया और किसी का होने भी नहीं दिया

रिश्ते तोड़ने नहीं चाहिए

पर जहा पर कद्र ना हो

वहा पर निभाने भी नहीं चाहिए

Gulzar sahab shayari

ए मेरे अच्छे वक्त तू भी जरा धीरे धीरे चल

क्युकी मैने अपने बुरे वक्त को धीरे धीरे चलते देखा है

चुप चाप गुजार देंगे तेरे बिना ये जिंदगी

लोगो को सीखा देंगे कि मोहबत ऐसी भी होती है

सिर्फ एक इंसान की वजह से कभी कभी

हमे पूरी दुनिया से नफ़रत हो जाती है

Poetry of gulzar in hindi

उनकी सच्चाई बड़ी कड़वी होती है

जिनकी हर बात शक्कर जैसे होती है

उनका खफा होना भी लाजमी है

क्योंकि हम उनकी परवाह उनसे ज्यादा करते हैं

जमाना सच में बदल गया है

खता करने वाले अब खुद इलज़ाम लगाते है

Shayari of gulzar

shayari on gulzar
shayari on gulzar

जिंदगी में कुछ हादसे ऐसे हो जाते है

जब इंसान जिंदा तो रहता है लेकिन

अंदर से मर जाता है

लोगो से अगर उनकी भाषा में बात करो

तो वह बुरा मान जाते हैं

ऐसा रिश्तों का भी क्या मतलब

जब सारी मुष्कले खुद झेलना पडे

Gulzar best poetry

दुनिया की सबसे बड़ी लत है इंसान की लत

इससे हमेशा दूर ही रहो वरना आत्म सम्मान खो देंगे

आज कल हम किसी की जिंदगी में तभी तक ख़ास रहते हैं

जब तक उन्हे कोई और नहीं मिल जाता

बहुत दुख होता है जब कोई हमे बाय बोल कर

बहुत देर तक ऑनलाइन रहते है 

Shayari of gulzar

जज्बातों में बहने का जमाना अब चला गया यारो

अब जो सीधा करने में माहिर हैं

बही खुश रहता है वरना लोग आपको ठग लेते हैं

सूरज और चांद से मैंने एक बात तो सीख ली

जब कोई बीच में आता है तो ग्रहण लग ही जाता है

कभी कभी किसी रिश्ता का टूट जाना भी

इसलिए भी जरूरी होता है ताकि हमे पता

चल सके कि हमने कोन कोन सी गलतफहमी पाल रखी थी

तुम्हे चाहने की वजह कुछ भी नहीं

बस इश्क की फितरत है बेवजह होना.

ये थी दोस्तों मेरे द्वारा दी गई आपको चुनिंदा gulzar shayari और gulzar poetry मई उम्मीद करूंगा कि आपको gulzar sahab ki shayari आपको पसंद आई होगी और हमे आप कमेन्ट मे जरूर बताएं कि आपको कौन सी gulzar shayari सबसे अच्छी लगी . 

हमे आपकी राय का कमेन्ट मे इंतजार रहेगा ,और ऐसी ही best hindi shayari पाने के लिए आप हमारे hindilove shayari blog मे आते रहें  sewayojan up

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *